Breaking News
Home / Uncategorized / BREAKING NEWS / बहराइच- बिना एक्सपायरी दवाओं को भी जलाकर आखिर क्या दिखाना चाहते हैं जिम्मेदार
[responsivevoice_button pitch= voice="Hindi Female" buttontext="ख़बर को सुनें"]

बहराइच- बिना एक्सपायरी दवाओं को भी जलाकर आखिर क्या दिखाना चाहते हैं जिम्मेदार

आखिर किसके संरक्षण पर बच रहे हैं पीएचसी अमवा हुसैनपुर के जिम्मेदार

मरीजों का नहीं हो रहा है इलाज समय से पहले बंद होता अस्पताल मरीज दर-दर भटकने को मजबूर

योगी सरकार की स्वास्थ्य योजनाओं पर लगाया जा रहा बट्टा

बिना एक्सपायरी दवाओं को भी जलाकर आखिर क्या दिखाना चाहते हैं जिम्मेदार

बहराइच:- नानपारा तहसील के अंतर्गत आने वाले पीएचसी अमवा हुसैनपुर में मरीजों का उचित इलाज नहीं हो पाता है समय से पहले ही अस्पताल बंद कर दिया जाता है मरीज दर-दर भटक कर निराश होकर प्राइवेट अस्पताल का रुख करने को मजबूर हैं कोरोना से महामारी के इस दौर में भी अमवा हुसैनपुर सरकारी अस्पताल मरीजों को व्यवस्थित तौर पर स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ नहीं दे पा रहा है, 9 अगस्त को अस्पताल समय से पहले दवाओं को जलाकर बंद कर दिया गया जलती दवाओं को जब देखा गया तो जो दवाएं एक्सपायरी नहीं थी वह भी जलाने की अवस्था में मिली अस्पताल परिसर में दवाओं को जलाने के लिए व्यवस्थित ईंट के कंटेनर बना है जिसमें टेबलेट ट्यूब सिरिंज निडिल एम्पुल जलती मिली अस्पताल 14:45 पर बंद मिला जिसकी सूचना समाजसेवी ने दूरभाष के माध्यम से मुख्य चिकित्सा अधिकारी बहराइच को दी और समाजसेवी ने सीएमओ के कहने पर व्हाट्सएप पर पूरे प्रकरण की वीडियो भी भेजी।

समाजसेवी के अवगत कराए जाने के बाद 10 अगस्त को पहुंचे पत्रकार

समाजसेवी के द्वारा प्रकरण की जानकारी पत्रकारों को दी गई जिससे पत्रकार 10 अगस्त को समय लगभग 15:30 बजे अमवा हुसैनपुर पीएचसी पहुंचे जहां पर अस्पताल के मुख्य द्वार बंद होने के कारण 4 वर्ष के मरीज बच्चे को उसके परिजन अस्पताल के बाहर सड़क पर लिए खड़े मिले मरीज के परिजन ने बताया कि मेरा बच्चा बीमारी से परेशान है लगातार तीन दिन से अस्पताल के चक्कर लगा रहा हूं परंतु अस्पताल समय से पहले ही बंद मिलता है आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण प्राइवेट अस्पतालों में इलाज कराने में असमर्थ हूं जिस कारण इस अस्पताल में इलाज कराने को विवश हूं इसके बाद समाजसेवी के द्वारा बताई गई जलती दवाओं का जायजा लिया गया तो स्थिति गंभीर मिली मौके पर 9 अगस्त के वीडियो के अनुसार कंटेनर को साफ किया गया और उसमें कुछ अनावश्यक चीजें डालकर कंटेनर को कूड़ेदान का रूप दिया गया उसके बाद भी कुछ बिना रेपर के टेबलेट मिले जैसा कहा जाता है कि चोरी करने के बाद भी सबूत छूट जाते हैं वही हाल अमवा हुसैनपुर अस्पताल में हुआ यदि 9 अगस्त के वीडियो वायरल होने के बाद प्रकरण को उच्च अधिकारी संज्ञान में लेते तो 10 अगस्त को अस्पताल समय से खुलता बंद होता और जलाई गई दवाओं के साथ अमवा हुसैनपुर के जिम्मेदार खिलवाड़ न कर पाते।

आखिर किसकी संरक्षण से बच रहे हैं अमवा हुसैनपुर पीएचसी के जिम्मेदार आखिर कब तक संरक्षण देते रहेंगे जिम्मेदारान

अमवा हुसैनपुर पीएचसी से लगातार लापरवाही भ्रष्टाचार गैर जिम्मेदाराना कार्यों को लेकर सुर्खियों में जाना जाता है कई बार समाचार के माध्यम से सूचना भी जिम्मेदारों को पहुंचती है फिर भी अभी तक अमवा हुसैनपुर के जिम्मेदारों पर कार्यवाही क्यों नहीं की गई यह चर्चा का विषय है।

क्या कहते हैं मुख्य चिकित्सा अधिकारी बहराइच

मुख्य चिकित्सा अधिकारी बहराइच डॉक्टर एस के सिंह से जब इस प्रकरण के संबंध में संवाददाता ने वार्ता की तब मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि पूरे प्रकरण की गंभीरता से जांच की जाएगी जांच के बाद जो भी दोषी पाया जाएगा उसके विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जाएगी।

रिपोर्ट- विवेक श्रीवास्तव ।। CMD NEWS

About cmdnews

Check Also

उपजिलाधिकारी को भेंट किया कैलेंडर

रिपोर्ट आशीष सिंह उपजिलाधिकारी को भेंट किया कैलेंडर सिरौलीगौसपुर,बाराबंकी 21 फरवरी 2024, राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *