Breaking News
Home / अयोध्या / आर्य समाज द्वारा प्राचीन देव काली मंदिर में देवकाली मंदिर में होली मिलन व वैदिक यज्ञ का आयोजन कर लोक कल्याण की कामना की । विधायक ने कहा की रूदौली के कर्मठ लोग त्याग -समर्पण से ही अपने पूर्वजों की विरासत को सजोये रख कर इस तरह के मिलन व सौहार्द्र का आयोजन करते है ।
[responsivevoice_button pitch= voice="Hindi Female" buttontext="ख़बर को सुनें"]

आर्य समाज द्वारा प्राचीन देव काली मंदिर में देवकाली मंदिर में होली मिलन व वैदिक यज्ञ का आयोजन कर लोक कल्याण की कामना की । विधायक ने कहा की रूदौली के कर्मठ लोग त्याग -समर्पण से ही अपने पूर्वजों की विरासत को सजोये रख कर इस तरह के मिलन व सौहार्द्र का आयोजन करते है ।

 

सुधीर बंसल जिला ब्यूरो चीफ की रिपोर्ट
रूदौली (अयोध्या )—————– रूदौली क्षेत्र में एकता -समता का पावन पर्व होली अतीव हर्षोल्लास पूर्ण वातावरण में मनाया गया। नवयुवको की उत्साहित टोली ने होली का जुलूस गली मोहल्लों में निकाल कर एक दुसरो को अबीर ,गुलाल रंगों से सराबोर कर दिया । होली के दिन सायं काल नगर के प्राचीन देवकाली मंदिर में आर्य समाज रुद्रावली द्वारा वैदिक यज्ञ व होली मिलन का आयोजन किया गया जिसमें काफी संख्या में गण्यमान्य लोग उपस्थित हुए विधायक रुदौली राम चन्द्र यादव ने अपने संबोधन में कहा कि इतिहास को सहेजना व याद करने की प्रेणना हमे अपने पूर्वजों से ही मिलती है देवकाली मंदिर में प्रतिवर्ष होने वाला यह होली मिलन कार्यक्रम ऐतिहासिक व सैकड़ो वर्षो का प्राचीन है इस सफल आयोजन के लिये आर्य समाज सराहना का पात्र है ।नगर क्षेत्र में संवेदनशीलता के वावजूद सुन्दर व शांतिपूर्ण वातावरण में होली का पर्व मनाया जाता है ऐसे आयोजनों का दायित्व संभालने वालो का समाज मे समर्पण भाव सामने आता है । उन्होंने कहा की इसी भावना से देश मे बदलाव आया है इस सामाजिक पूंजी को सजोये रखना हम सभी का नैतिक दायित्व है,उन्होंने सभी को होली की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि यह पर्व अनेक विविधताओं की समेटे हुए छोटे बड़े का भेद भाव समाप्त करती है । आर्य समाज के मंत्री शतीन्द्र प्रकाश शास्त्री ने होली पर्व की विशेष आहुतियां देते हुए कहा कि होली पर्व का प्राचीन नाम वासंती नव सस्येष्टि है बसन्त ऋतु में नए अन्न से यज्ञ करने की प्राचीन परम्परा रही है इसलिये इसका नाम वासंती नव सस्येष्टि है इससे नव संवत्सर का प्रारंभ होता है । उन्होंने कहा कि होली हेमन्त और बसन्त ऋतु का योग है अग्नि में भुने हुए अधपके फली वाले अन्न को होलक कहते है जिसका अपभ्रंश होली है । सभी को होली की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हमे पर्वो को प्राचीन परम्परा के अनुरूप मनाना चाहिये । क्षेत्राधिकारी रूदौली डा0 धर्मेंद्र कुमार यादव ने शांति व सदभाव पूर्ण वातावरण में होली मनाए जाने के लिए नगर वासियो को साधुवाद दिया । समाजसेवी डा0 निहाल रजा ने होली मिलन कार्यक्रम में उपस्थित सभी लोगों को शुभकामनाएं दी । अन्य वक्ताओ में पूर्व पालिकाध्यक्ष अशोक कुमार कसौधन शिव राम यज्ञसेनी विंध्यवासिनी प्रसाद मिश्र चंदा लाल राही राजेश गुप्ता विश्वनाथ तिवारी अभय कुमाश्रर वैश्य
सत्य देव गुप्त”सत्य आदि थे । प्रमुख उपस्थित लोगों में रूदौली कोतवाली प्रभारी विनोद बाबू मिश्र, प्रेम हरि आर्य राम शंकर यादव बृजेश कुमार धवन शचीन्द्र देव आर्य हरि शंकर आर्यराजेन्द्र कौशल वेदरत्न आर्य, राजकुमार गुप्त कैलाश चौरसिया, राम किशोर गुप्ता राम सनेही लोधी अशोक कुमार गुप्ता सोना देवी भीष्म नारायण राज किशोर सिंहरवि वैश्य राजेश वैश्य रमेश राठौर ऋषभ गुप्ता आदि थे । आर्य समाज के अध्यक्ष सुभाष चंद्र आर्य ने सभी का आभार ब्यक्त किया सभी लोगो ने परस्पर गले मिलकर अबीर गुलाल लगाकर सदभाव का संदेश दिया

About CMDNEWS

Check Also

बहराइच- जुड़ा गांव में अज्ञात कारणों से घर में लगी में लगी आग,घर में सो रहे बच्चे की जलकर दर्दनाक मौत,परिवार में मचा कोहराम

रिपोर्ट- विवेक श्रीवास्तव कार्यालय कोतवाली नानपारा क्षेत्र के जुड़ा निवासी सनोज के घर मे अज्ञात …

Leave a Reply